प्रशांत पंड्या का फिला जगत

डाक टिकट संग्रह के सर्व प्रथम हिन्दी ब्लॉग में आपका स्वागत है | इस माध्यम से भारतीय राष्ट्रीय भाषा में डाक टिकट संग्रह के बारे में जानकारी उपलब्ध कराने का यह एक प्रयास है |

शायद इस इलेक्ट्रॉनिक युग में इंटरनेट (internet) का कोइ शिकार बना है तो वह है डाक सेवा । मुझे लगता है की आजके युवा वर्ग को केवल डाकघर के अस्तित्व के बारे में पता है पर डाकघर की बहुत सारी सेवाओं के बारे में पता नहीं है। इमेल (email) और त्वरित संदेश (SMS) जैसे माध्यमो की वजह से किसे आज डाकघर की जरुरत महसूस होती है | इसी वजह से उसका सीधा असर डाक टिकटों के संग्रह के शौक और डाक टिकट संग्रह की कला पर भी हुआ है।

डाकघर से गुजरनेवाली हर एक चिठ्ठियों पर लगनेवाला एक छोटा सा कागज का टुकडा जिसे हम डाक टिकट (postage stamp) कहते है वह एक देश की समृद्ध विरासत के बारे में बहुत कुछ कहता है। पिछली पोस्ट में मैंने डाक टिकट संग्रह के बारे में और उसके महत्व के बारे में चर्चा की थी। डाक टिकट संग्रह दुनिया के सबसे आकर्षक शौक के रूप में परिभाषित किया गया है लेकिन इस बात को हम बिलकुल नजर अंदाज नहीं कर सकते की आज उत्तरोत्तर डाक टिकट संग्रह का शौक मृतपाय हो रहा है।

डाक टिकट संग्रह के माध्यम से, आप एक देश के इतिहास (history), कला (art), संस्कृति (culture), महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटनाएं (important historical events), व्यक्तियों (personalities), उपलब्धियां (accomplishments), ऐतिहासिक स्थलों (historical places), वनस्पति (flora), पशु, पंखी (fauna) और बहुत सारी चीजों के बारे में ज्ञान प्राप्त कर सकते है।

इस लेख का प्राथमिक उदेश्य आपको इस ब्लॉग और डाक टिकटो के संग्रह (philatelic collection) के माध्यम से भारत देश की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत (cultural heritage) की सैर करवाने का और साथ साथ डाक टिकट संग्रह के शौक को बढ़ावा देने का है। उम्मीद् है इस डाक विरासत की सैर युवा वर्ग को डाक टिकट संग्रह शुरू करने की प्रेरणा देगी।

हमारा भारत (Our India)
“मैं एक भारतीय हूँ और भारत मेरा देश 'है” - ये बातें सिर्फ़ बोलना पर्याप्त नहीं है। राष्ट्रीयता उससे और अधिक है। हमें इस देश के बारे में पूरी तरह से पता होना । भारत एक सबसे पुरानी, सबसे ज्यादा और सबसे आकर्षक विविधतापूर्ण और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के साथ सभ्यता परिसर का दावा करता है।

I am an Indian and India is my Country” - to say these words is not enough and nationhood is much more. We must also know the Country we live in thoroughly. India boasts one of the oldest, most complex and most fascinating civilization with a kaleidoscopic variety and rich cultural heritage.

भारत देश का एशिया में एक अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है |
भारत देश का नाम राजा दुष्यंत और शकुन्तला के बहादुर बेटे भरत के नाम से रक्खा गया है जो शेर केबच्चे साथ खेलते समय उसके दाँत गिन सकता था।


भारत का स्थान (Location of India)

उत्तरिय भूमध्य रेखा (North of the equator)
पूर्वी गोलार्द्ध के केन्द्र में (Centre of the Eastern Hemisphere)
अक्षांश: 804'और 3706' उत्तरी (Latitude: 804' and 3706' North)
देशांतर: 6807’ और 97025 ‘ पूर्व की ओर. (Longitude: 6807' and 97025' East)
उत्तरी TROPIC (Tropic of Cancer) देश भरसे गुजरता है।



हमारे
पड़ोसी देश (Our Neighbours)
नेपाल (Nepal) , बांग्ला देश (Bangladesh), पाकिस्तान (Pakistan), श्री लंका (Srilanka)और भूटान (Bhutan).


भौगोलिक परिस्थितियां (Physical Settings)
भारत देश अपनी प्राकृतिक सीमाओं देशको व्यापक रूप से सुरक्षित है। पूर्व, दक्षिण और पश्चिम महासागर और उत्तर में शक्तिशाली हिमालय पर्वत की श्रृंखलाएं एक अभेद्य दीवार प्रदान करतें है। भौगोलिक दृष्टि से मुख्य भूमि पाँच क्षेत्रो में बटी हुइ है।

उत्तर में (In the North)
उत्तरी पर्वतीय क्षेत्र (Northern Mountainous Region)
हिमालय पर्वत की श्रृंखलाएं इस क्षेत्र में स्थित है। तलवार आकार की हिमालय पर्वतमाला का खिंचाव पूरबि-पश्चिम दिशा में 2400 किलोमीटर तक का है। माउंट एवरेस्ट दुनिया का सबसे बड़ा पर्वत है जिसकी उंचाई 29028 फीट है।

उत्तरीय मैदान (Plains of North)




उत्तर भारतीय मैदान (North Indian plains) हिमालय की तलहटी में फैले हुऐ है। Indo-Gangetic मैदानी इलाके देश की पवित्र नदियाँ गंगा, ब्रह्मपुत्र और अन्य जुडी हूई नदियों से निर्मित है।

पश्चिम में (In the West)
प्रायद्वीपीय पठार (Peninsular Plateau)



थार मरुस्थल (Thar Desert) पश्चिम में स्थित है और पश्चिमी भारत और पाकिस्तान तक फैला हुआ है । थार मरुस्थल दुनिया के सबसे बड़े मरुस्थलो में सातवें स्थान पर है।



साम्भर झील (Sambhar Lake) भारत में सबसे Saltiest झील है और वह गुलाबी शहर जयपुर के पास स्थित है ।

नर्मदा नदी (Narmada River) विन्धयाचल पर्वतो (Vindhya Hills) से शुरू होकर पश्चिम की दिशा में प्रवाहित है।

दक्षिण में (In the South)

प्रायद्वीपीय डेक्कन पठार देश के दक्षिण में है। इस पठारी क्षेत्र दक्षिण के उत्तरीय उपजाऊ मैदान से शुरू होकर भारत के दक्षिणी सिरे पर समाप्त होता है।



हैदराबाद (Hyderabad), त्रावणकोर - कोचीन (Travancore – Cochin), बँगलोर (Bangalore)



पितालकोरा गुफाएं, औरंगाबाद जिला Pitalkora Caves (Aurangabad District), विवेकानंद रॉक मेमोरियल, कन्याकुमारी (Vivekananda Rock Memorial, Kanyakumari)

पूर्व में (In the East)

पूर्व भारत में समुद्र तट के प्रायद्वीप चारों ओर विस्तृत है। समुद्र तट पश्चिम से शुरू होकर पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु की सीमा पूर्व तक फैला है।



कोलकाता (Kolkata), गोपालपुर, उड़ीसा (Gopalpur- Orissa), ब्रह्मपुत्र नदी ( "लाल नदी"), असम Brahmaputra River ("The Red River"), Assam


भारत की मुख्य भूमि के अलावा दो द्वीप समूह भारत के अंग है। अंदामान 324 द्वीपों का एक समूह है और लक्षद्वीप 36 प्रवाल द्वीपों का समूह है।

सेलुलर जेल-पोर्ट ब्लेयर (Cellular Jail- Port Blair)



अगली पोस्ट में जारी ... / Continued in next post ....

3 comments:

बहुत खूब! टिकटों के माध्यम से इतिहास-भूगोल आदि की जानकारी देने के लिये धन्यवाद!

Nice Collection of Stamps with interesting informations.An useful blog for Philatelists.

wonderful collection, keep it up.